Thursday, 29 December 2016

भाभी जी नोटबंदी के समर्थन में !

29 दिसंबर, 2016

भारतीय प्रधानमंत्री मोदी जी ने पिछले महीने 8 नवम्बर, 2016 की रात्रि में एक अभूतपूर्व निर्णय लिया। उस रात 12 बजे या फिर यूँ कहिये कि 9 नवम्बर, 2016 के जीरो ऑवर से 500 और 1000 रुपये के प्रचलित नोट को बंद करने की घोषणा की। जिसने सुना वही सन्न रह गया। इसकी आलोचना और प्रशंसा अभी तक चल रही है। लगभग पूरा देश ही इसके समर्थन और विरोध में बँट सा गया। न्यूज चैनल्स पर भी इस पर गंभीर बहस छिड़ गई। 

वैसे तो इंटरटेनमेंट चैनल्स या फिर किसी कार्यक्रम - सीरियल के प्रोड्यूसर्स को सिर्फ एडवर्टाइज से कमाई से मतलब होता है। चैनल्स सामाजिक सरोकार से लबरेज सन्देश को भी पैसा लेकर ही दिखाने के लिए चर्चित हैं। ऐसे में एक लोकप्रिय सीरियल ने भी अपनी तरफ से जन-जागरूकता दिखाने या फिर अपनी सामाजिक जिम्मेदारी की भरपूर कोशिश की। &TV पर रात 10:30 बजे सोमवार से शनिवार तक एक सीरियल आता है। 

सही पकड़े हैं,  सीरियल का नाम "भाबी जी घर पर हैं" ही है। 2015 की शुरुआत में शुरू हुआ यह धारावाहिक आज अपनी लोकप्रियता के चरम पर है। सीरियल के किरदार "अंगूरी भाभी", "हप्पू सिंह", "टीका", "मलखान" आज घर घर में लोकप्रिय हैं। कुछ लोग इसको वयस्क कॉमेडी भी कहते हैं लेकिन "मनमोहन तिवारी" और "विभूति मिश्रा" की नोकझोंक सबको अच्छी लगती है। इस सीरियल ने लोगों के मनोरंजन की जिम्मेदारी तो अच्छे से उठा रखी ही है, पिछले दिनों इसने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी का भी नमूना पेश किया। 

नोटबंदी की घोषणा के बाद से ही इसके एपिसोड्स में इसको लेकर जागरूकता फ़ैलाने की कोशिश की गई। लगभग एक हफ्ते तक इसकी कहानी में नोटबंदी ही छाया रहा। इसके किरदारों ने कहानी के माध्यम से नोटबंदी के प्रति जागरूकता फ़ैलाने की कोशिश की। जब मनमोहन तिवारी ने झूठ बोलकर अपने काले धन को अनीता जी के माध्यम से सफ़ेद करने की कोशिश की तो अनीता जी ने उनको खूब डाँट लगाई। 

जब झूठ बोलकर हप्पू सिंह और तिवारी जी ने अपने काले धन को छापे मारी से बचाने के लिए अनीता जी के घर में छुपाने की कोशिश की तब भी उनकी एक नहीं चली। अनीता जी ने काले धन रखने पर होने वाली परेशानी के बारे में भी बताया। जब टीका और मलखान अपने पैसे बदलवाने जाते हैं तो चौकीदार ने उनको अपना पैन कार्ड लाने को कहा। 

कुल मिलाकर इस सीरियल ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को बखूबी निभाया। नोटबंदी कितना सफल या असफल रहा ये अलग चर्चा का विषय है। 




Wednesday, 14 December 2016

मोटो G4 प्लस मोबाईल के सारे शानदार फीचर्स देखिये




मोटो G4 प्लस मोबाईल के सारे शानदार फीचर्स देखिये करीब 5 मिनट के इस छोटे से वीडियो में। इस मोबाईल को खरीदने पर बॉक्स में मोबाईल के साथ-साथ और क्या-क्या चीज मिलती है ? इस मोबाईल के क्या- क्या खास फंक्शन हैं ? सब कुछ बताया गया है बॉक्स को पूरा खोल के और मोबाईल को चलाके। बस क्लिक करके विडियो को देखिये।

Saturday, 10 December 2016

जमींदार का निकम्मा लड़का

बहुत साल पहले की बात है। एक बहुत बड़ा जमींदार था। उसके पास बहुत सारी जमीन थी, बहुत सारी भेड़ -बकरियाँ थी। लेकिन बेटा बड़ा ही निकम्मा। दिन भर आवारागर्दी करता रहता। जमींदार ने सोचा कि इसकी शादी - ब्याह करवा दूँ ताकि ये संभल जायेगा। लेकिन हुआ इसका उल्टा। जमींदार का बेटा घर से ऐसा भागा कि वापस ही नहीं आया। इसके बाद उसकी बीवी भी घर छोड़ कर चली गयी, निखट्टू की आस में आखिर कब तक जिंदगी बर्बाद करती अपनी।

जमींदार की मृत्यु के बाद उसकी धन संपत्ति को सँभालने वाला कोई नहीं था, इस मारे गाँव वालों ने धीरे-धीरे उसकी धन संपत्तियों पर कब्ज़ा जमाना शुरू कर दिया। अकेली बुढ़िया किस किस से लड़ती, सो दम खाकर अपने साम्राज्य को लुटता हुआ देखती रही, इस आस में कि एक दिन उसका निकम्मा बेटा वापिस आएगा और बची खुची संपत्ति को संभालेगा। एक दिन हुआ भी ऐसा ही, जमींदार का निकम्मा बेटा घूमता घूमता अपने गाँव वापस आ गया।

जमींदारी के नाम पर अब सिर्फ भेड़ - बकरियाँ रह गई थी। जमींदार का निकम्मा बेटा उन्ही भेड़-बकरियों को सुबह चराने ले जाता और शाम को घर वापस ले आता। लेकिन उसके निकम्मापन में कोई कमी नहीं आई। भेड़ बकरियों को चरने के लिए छोड़ कर वो या तो सो जाता या फिर दूसरे लड़कों के साथ नशे में लिप्त हो जाता। नशे की हालात में अक्सर जंगल में ऊँचे टीले पर खड़े होकर और अपनी शेखी बघारता और दूसरे चरवाहों का मजाक उड़ाता।

एक दिन जब वह ऊँचे टीले पर खड़े होकर अपनी शेखी बघार रहा था तो मौका पाकर गाँव वालों ने उसकी सारी भेड़ -बकरियाँ चुरा ली। जब शाम को घर लौटा तो साथ में भेड़ -बकरियाँ न पाकर उसकी माँ ने उसको खूब डाँट लगाई और अपनी किस्मत को कोसा। दूसरे दिन वह जंगल में ऊँचे टीले पर जाकर खड़ा हो गया और जोर जोर से गाँव वालों को आवाज़ें लगाने लगा। गाँव वालों ने सोचा कि शायद कोई जंगली जानवर इसको पकड़ने की कोशिश कर रहा है। सुनते ही सभी दौड़कर टीले के पास पहुँचे। उनके पहुँचते ही निकम्मा किसी मंजे हुए नेता की तरह गाँव वालों को संबोधित करने लगा।

"भाइयों और बहनो, मुझे पता है कि मेरी भेड़ -बकरियाँ तुममे से किसी ने या कुछ लोगों ने चुराई है। मैं आज शाम तक का समय देता हूँ। तुमलोग चुपचाप मेरी सारी भेड़ -बकरियाँ वापस कर दो। तुम लोगों को कुछ नहीं कहूँगा।" गाँव वालों ने निकम्मे की बातों पर कोई ध्यान नहीं दिया और गाँव में वापस आकर अपने काम पर लग गए। दिन भर इंतज़ार करने के बाद जब शाम को घर पहुँचा माँ ने कल से दोगुनी ज्यादा डाँट लगाई। दूसरे दिन फिर सुबह सुबह जमींदार का बेटा जंगल में ऊँचे टीले पर जाकर खड़ा होकर फिर से गाँव वालों को जोर जोर से आवाज़ें लगाने लगा।

गाँव वाले फिर से भागे भागे पहुंचे। वह फिर शुरू हो गया। "भाइयों और बहनो, तुमलोगों ने मेरी भेड़ -बकरियाँ अभी तक वापस नहीं की। मैं आज शाम तक का समय देता हूँ। तुमलोग चाहो तो आधी भेड़ -बकरियाँ अपने पास रख लो लेकिन आधी भेड़ -बकरियाँ वापस कर दो। मैं तुम लोगों को कुछ नहीं कहूँगा।" लेकिन गाँव वालों ने उसकी बात पर कान नहीं दिया और वापस आकर अपने काम में लग गए। शाम तक किसी ने भी एक भी भेड़ या बकरी वापस नहीं की। शाम को घर लौटने पर माँ ने फिर से उसकी अच्छी तरह खबर ली।

दूसरे दिन सुबह फिर से जंगल में ऊँचे टीले पर खड़ा होकर आवाज लगाने लगा। गाँव वालों के आने पर उनको संबोधित करते हुए बोला। "भाइयों और बहनो, तुमलोगों ने मेरी भेड़ -बकरियाँ अभी तक वापस नहीं की। मैं आज शाम तक का समय देता हूँ। तुमलोग चाहो तो तीन चौथाई भेड़ -बकरियाँ अपने पास रख लो लेकिन एक चौथाई भेड़ -बकरियाँ वापस कर दो। मैं तुम लोगों को कुछ नहीं कहूँगा।" गाँव वालों ने फिर से अनसुना कर दिया। लेकिन जमींदार का लड़का टीले से नहीं उतरा। शाम की मियाद ख़त्म होते ही उसने फिर से जोर जोर से गाँव वालों को आवाज लगाना शुरू कर दिया।

पहले तो गाँव वाले उसकी आवाज़ को बहुत देर तक अनसुना करते रहे। लेकिन जब वह चुप नहीं हुआ तो एक बार फिर सब लोग ऊँचे टीले के पास पहुँचे। जमींदार के लड़के ने बोलना शुरू किया। इस बार उसकी आवाज़ में कड़कपन था। बोला, "भाइयों और बहनो, तुमलोगों ने मेरी एक चौथाई भेड़ -बकरियाँ भी अभी तक वापस नहीं की। अब तुम सब की मोहलत और रियायत ख़त्म। अब मैं कल सुबह वो करके दिखाऊंगा, जो तुम लोगों ने आज तक नहीं देखी होगी। कल मैं वही करूँगा जो मैंने आज से 40 साल पहले किया था, जब शहर में किसी ने मेरी साईकिल चुरा ली थी लेकिन मेरे बार-बार कहने पर भी वापस नहीं की थी।

इतना सुनना था कि गाँव वाले बुरी तरह घबरा गए। बिलकुल बदहवास हो गए। भागे भागे गाँव गए। सबने आपस में मशविरा किया कि पता नहीं ये निकम्मा कल सुबह क्या करे। पता नहीं क्या किया था इसने 40 साल पहले जब शहर में इसकी साइकल चोरी हो गई थी। कोई मुसीबत मोल लेने से अच्छा है कि इसकी भेड़-बकरियाँ ही वापस कर दी जाए। इतना तय कर सब लोग भेड़ बकरियों के साथ जंगल में ऊँचे टीले के पास पहुँचे और माफी माँगते हुए, जमींदार के लड़के को उसकी सारी भेड़ -बकरियाँ वापस सौंप दी। जमींदार का लड़का विजयी मुस्कान छोड़ते हुए गाँव वालों की तरफ देखा।

गाँव वाले एक दूसरे की तरफ देखने लगे। सब के मन में एक सवाल था लेकिन पूछने की हिम्मत किसी में नहीं थी। बहुत हिम्मत करके गाँव के सबसे बुजुर्ग ने पुछा, "बेटा हमने तुम्हारी भेड़ -बकरियाँ वापस कर दी। हम लोग बहुत शर्मिंदा भी हैं। बेटा बुरा न मानो तो एक बात पूछुं ? तुमने ऐसा क्या किया था जब तुम्हारी साईकिल चोरी हो गई थी 40 साल पहले ? " जमींदार का लड़का बोला, "क्या करता चाचा ? मैंने दूसरी साईकिल खरीद ली थी।"

Monday, 28 November 2016

माँ का आँचल, सर्वोत्तम सुरक्षा कवच

पिछले दिनों अपने दोस्त के परचून की दुकान पर बैठ कर उससे गप्पे लड़ा रहा था। उसकी दुकान पर बच्चों के खाने की चीजें जैसे विभिन्न प्रकार के टॉफी, चॉकलेट और बिस्कुट मिलते हैं। इसलिए उसके ग्राहकों में ज्यादातर बच्चे ही होते हैं। उस दिन 2 - 3 साल का एक छोटा बच्चा आया और बाहर दुकान के दरवाजे पर चिपके पोस्टर पर हाथ रख कर वही टॉफी देने के लिए बोला जिसकी तस्वीर उस पोस्टर पर थी। दोस्त ने बताया कि ये ख़त्म हो गया है, "कल" ले लेना। बच्चा बोला आज ही तो "कल" है। 

फिर दोस्त  को याद आया कि यही बच्चा कल शाम को भी आया था इसी टॉफी के लिए तो दोस्त ने कहा था कि "कल" ले लेना, आज ख़त्म हो गया है। अब बच्चे को क्या जवाब दे। उसने सम्भलते हुए जवाब दिया, अभी तो सुबह है न, शाम को बाजार जाऊंगा तो लेता आऊंगा। इतना सुनने के बाद बच्चा चला गया लेकिन थोड़ी ही देर के बाद पुनः वापस आया एक रुपये का सिक्का लेके और बोला दूसरी टॉफी दे दीजिए। मेरे दोस्त ने 1 रुपये वाली बहुत सी टॉफियाँ दिखाई लेकिन बच्चे को एक भी पसंद नहीं आई। बच्चा बोला कि लॉलीपॉप दीजिये। 

दोस्त ने कहा, लॉलीपॉप 5 रुपये का आता है, और पैसे ले आओ। बच्चा बोला, "मम्मी इतना ही दी है, आप लॉलीपॉप दीजिए"। दोस्त ने कहा कि घर जाओ और मम्मी से 5 रुपये ले आओ। बच्चा बोला कि मम्मी और रुपये नहीं देगी, इसी में दीजिए। अब दोस्त सोचने लगा कि अगर 5 रुपये की लॉलीपॉप 1 रुपये में देता हूँ तो सीधे-सीधे 4 रुपये का घाटा होता है। लेकिन बच्चे की मासूमियत देखते हुए उसको निराश भी नहीं करना चाहता था। इसलिए उसने 2 रुपये वाला लॉलीपॉप निकाला और बच्चे की तरफ बढ़ाया। 

लेकिन अबोध बालक समझ गया कि उसके साथ धोखा हो रहा है। उसने कहा कि ये नहीं, और 5 रुपये वाली लॉलीपॉप की तरफ इशारा करके बोला वो वाला दीजिए। अब दोस्त क्या करे, समझ नहीं पा रहा था कि बच्चे को कैसे समझाए। बच्चा 1 रुपये में 5 रुपये वाली लॉलीपॉप लेने की जिद पर अड़ा हुआ था। इसीलिए कोई चारा न पाकर दोस्त ने बच्चे से कहा कि पूरे 5 रुपये लाओगे तभी मिलेगा ये लॉलीपॉप। इतना सुनना था कि बच्चा बोला, "मम्मी को बोल दूँगा" और कहते हुए थोड़ा रुआंसा भी हो गया। 

"मम्मी को बोल दूंगा" कहते-कहते सुबकने भी लगा। अब दोस्त ने घाटे की परवाह नहीं करते हुए 5 रुपये वाली लॉलीपॉप निकाली और बच्चे को दे दिया। बच्चा भी मुस्कुराते हुए हाथ में 1 रुपये दिए और ख़ुशी-ख़ुशी चला गया। प्रसंग तो ख़त्म हो गया लेकिन मैं सोचने लगा। मुझे अपने बचपन के दिन याद आने लगे। बचपन में हमें भी हमारी माता जी सबसे बड़ी तारणहार लगती थी। जब भी हमें लगता था कि हमारे साथ नाइंसाफी हो रही है तो हम भी झट से सामने वाले को धमकाते थे कि मम्मी को बोल दूँगा। 

इसका वाक्य का असर भी होता था, सामने वाला डर जाता था और हमारे साथ कुछ गलत करने की हिम्मत नहीं करता था। जब कभी कोई हमें पीटने के लिए दौड़ता था या फिर हम कुछ शरारत करते थे तो हम झट से भागकर माँ के पास पहुँच जाते थे, माँ के पीछे या फिर उनके आँचल में छुप जाते थे। माँ हमेशा ही हमारा पक्ष लेती थी, हमारा बचाव करती थी। हमें लगता था कि माँ हमें हर मुसीबत से बचा लेगी, और बचाती भी थी। चाहे पिताजी का गुस्सा हो या मास्टर जी की डाँट, माताजी हमेशा बचाती थी। 

सच में, माँ की ममता अनमोल है, माँ का आँचल सर्वोत्तम सुरक्षा कवच है। 

Friday, 25 November 2016

मुबारकवाद दीजिए, ATM से नोट निकलवा आया हूँ।

26, नवम्बर, 2016

कई दिन हो गए, 500 और 1000 रुपयों के पुराने नोट अमान्य घोषित हुए। उसके दूसरे दिन ही बैंक और एटीएम बंद कर दिए गए, एटीएम तो तीसरे दिन भी बंद थे। अब जिनके पास 500 और 1000 रुपयों के नोट थे उनके बीच नोट बदलने या फिर बैंक से पैसे निकालने की अफरा-तफरी हो गयी। लगने लगी लंबी लंबी लाइनें एटीएम और बैंको के बाहर। ऐसा लग रहा था मानो रुपये मुफ्त मिल रहे हों। एक मेला सा लग रहा था ऐसी जगहों पर। 

ज्योहीं कोई एटीएम ख़राब होता या फिर उसमें रकम ख़त्म हो जाता, झट से लोग भाग पड़ते दूसरी जगह। ऐसे में हम कैसे इससे अप्रभावित हो सकते थे। 4-5 नोट हमारे पास भी थे ऐसे, सो हम भी पहुँच गए पास के एक बैंक में जमा करवाने। बैंक में भीड़ बहुत ज्यादा लगी मुझे। फॉर्म भर लेने के बाद देखा तो दो लाइनें पुरुषों की लगी थी और दो महिलाओं की। पुरुषों की दोनों लाइनों में 30 - 30 लोग लगे रहे होंगे। 10-15 मिनट के इंतजार के बाद भी जब लाइन आगे नहीं खिसकी तो हमने सोचा कि आज पहले ही दिन इतनी भीड़ है तो कल से तो और कम होगी। 
सो हमने बुद्धिमानी से काम लिया और अगले दिन आने का निश्चय करके लाइन से अलग हो गए और घर आ गए। दूसरे दिन सोचा कि आज जल्दी जाते हैं, टॉप 5 में रहेंगे तो हमारा काम जल्दी हो जाएगा। लेकिन जब बैंक पहुंचे तो देखा, लाइन बैंक बिल्डिंग के कैम्पस के मुख्य द्वार पर पहुँच चुकी है। अब हमने फिर दिमाग से काम लिया और नोट बदलवाने की सोची। इसके बाद लगाने लगे चक्कर बैंको के ताकि जिधर सबसे छोटी लाइन हो उधर ही खड़े हो जाएँ। लेकिन अफ़सोस, हर जगह पहले से ज्यादा ही लंबी लाइन दिखी। 

अभी तक घर में रखे कैश भी दाल चावल चीनी सब्जी आदि खरीदने में ख़त्म हो चुके थे। सो अब हमने निश्चय किया कि अब बैंको के चक्कर लगाने में समय नष्ट न करेंगे और एटीएम से पैसे निकाल लेंगे। एक दिन में 2000 रुपए तो निकाले ही जा सकते हैं। अब लगे एटीएम के चक्कर लगाने, लेकिन हर जगह बैंको से भी दोगुनी या तीनगुनी ज्यादा लंबी लाइन दिखी। हमने एक बार फिर दिमाग से काम लिया और अगले दिन सुबह ही सुबह नजदीक के एटीएम जाने का निश्चय किया। 9:30 बजे सुबह लाइन में लगे, 20 - 25 लोग हमसे पहले थे। ठीक 11:00 बजे हम 100-100 के बीस नोट निकाल के विजयी मुस्कान के साथ एटीएम से निकले। 

कसम, से ऐसी फीलिंग आ रही थी, मानो कोई बहुत बड़ी जंग जीत ली हो। चेहरे से मुस्कान छिपे नहीं छिप रही थी, एक नया और अनोखा अनुभव जो पा चूका था।

Wednesday, 16 November 2016

तो ये है सोनम गुप्ता के बेवफा होने की कहानी ?

कल से ही सोशल मीडिया में 10 और 2000 रुपये के नोट की फोटो शेयर की जा रही है जिस पर लिखा है "सोनम गुप्ता बेवफा है"। किसी लड़की का नाम इस तरह से बदनाम करना बिलकुल गलत है। इस के दोषी पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। नोटों को विरूपित करने का मामला भी दर्ज होना चाहिए। ताकि कोई भविष्य में इस तरह की हरकत न करे।

इसी बीच कुछ लोगों ने अपनी कल्पनाशीलता का परिचय देते हुए कुछ मनगढन्त कहानियाँ भी सोशल मीडिया में शेयर करनी शुरू कर दी है। जिसमें से एक निम्न प्रकार से है।  

बहुत पहले की बात है, राजू और सोनम गुप्ता एक ही बस में सफर कर रहे थे। कंडेक्टर से टिकट लिया, उसके पास छुट्टे नही थे। 20 का नोट था और सोनम और राजू दोनों को ही 10-10/- लौटाने थे। सोनम और राजू दोनों का स्टॉपेज एक ही था, बस कंडेक्टर राजू को 20 का नोट दिया और बोला, "भाई ये ले, जब स्टॉप पर उतरे तो मैडम को खुले करा के 10/- दे दियो और अपने10/- रख लियो।" 

जब सोनम को ये बात पता चली तो वो राजू को देख मुस्कुरायी। राजू के मन में लड्डू फूटने लगे। उसने बातो ही बातों में सोनम से उसका नाम पूछा, वो कहाँ जायेगी ये पूछा और भी थोड़ी इंफॉर्मेशन मांगी और फिर आँख बंद करके सोनम के साथ सुनहरे भविष्य के सपने देखने लगा। सपने देखते देखते कब स्टॉप आ गया उसे पता ही नही लगा। वो सपने देखते रहा। 

इतने में सोनम भी उससे अपने छुट्टे पैसे लेना भूल चुकी थी। जैसे ही स्टॉप आया, सोनम, जो कि पहले ही बस के गेट पर पहुच चुकी थी, वो उतर गयी, इसी बीच राजू को भी अहसास हुआ कि स्टॉप आ गया है तो वो उठा और दौड़ते हुए गेट पर पहुंचा, उसकी नज़र चारो और बस सोनम को ढूंढ रही थीं। जब तक वह गेट पर पहुंचा बस हल्की हल्की चल पड़ी थी, वह चलती बस में से कूद कर बाहर आया और सोनम गुप्ता को ढूंढने लगा। 

तभी अचानक उसकी निगाहें दूर खड़ी, किसी से हंस कर बात करती हुई सोनम पर पड़ीं। जैसे समय रुक गया हो उसका, उसने पास के एक ठेले से एक पाउच पान बहार का लिया, उसे खोल कर मुंह में डाला, और 10/- हाथ में लिए वह सोनम की और जाने लगा। उसे ऐसा लग रहा था जैसे वह शाहरुख़ खान हो और सोनम की ओर स्लो मोशन में भाग रहा हो। अचानक उसकी निगाह उस पर पड़ीं जिससे वह बात कर रही थी, वो एक लंबा, हैंडसम सा लड़का था, जो बार बार उसका हाथ पकड़ रहा था। 

राजू को थोड़ा गुस्सा आया वह थोड़ा तेज़ी से सोनम की ओर बढ़ने लगा, लेकिन इसी बीच सोनम उस लड़के के साथ पास खड़ी बाइक पर बैठ गयी, लड़के ने बाइक स्टार्ट की, सोनम ने उसके कमर में हाथ डाले और वह लड़का सोनम को लेकर फुर्र। अब राजू खड़ा देखता रह गया। बहुत गुस्सा आया, उसके सपने चूर चूर हो चुके थे। उसने आव देखा न ताव, हाथ में लिए 10 के नोट पर लिखा "सोनम गुप्ता बेवफा है "। उसे पास बैठे एक भिखारी को दिया और तेजी से मुंह का गुटका थूकता हुआ स्टेशन से निकल गया। 

वह बरसों सोनम से बिछड़ा तो रहा लेकिन उसे कभी भूल नही पाया। अब परसों जब वह अपने नोट बदलवा कर बैंक से निकला तो सामने अचानक से सोनम दिख गयी। सोनम गुप्ता को देखकर उसके मन के अरमान फिर से जाग गये। उसके हाथ में 2 हज़ार के दो करारे नोट थे। जैसे ही सोनम को देखा तो उसकी और जाने लगा। अचानक से फिर वही लड़का सामने था, इस बार गाड़ी में, उसके साथ बैठी और चली गयी। 

राजू को फिर गुस्सा आया और उसने 2 हज़ार के नोट पर लिखा "सोनम गुप्ता बेवफा है" और लाइन में खड़े एक लड़के से 500 के 4 नोट लेकर वो 2 हज़ार का नोट उसे देकर खुद फिर से लाइन में लग गया। 

तो यही है अपने राजू की दर्द भरी, सोनम गुप्ता के बेवफा होने की कहानी।  

(नोट : ये कहानी सोशल मीडिया में बहुत शेयर की जा रही है। इसके पात्र का किसी व्यक्ति विशेष से सम्बन्ध नहीं है। लेखक इसके मूल-लेखक होने का दावा नहीं करता। हमारा उद्देश्य किसी की भावना को आहत करना नहीं है। लेख का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ विशुद्ध मनोरंजन करने के सिवा और कुछ नहीं है।)
( साभार : सोशल मीडिया )

Sunday, 6 November 2016

पंजाब के उद्योगपतियों को आम आदमी पार्टी की सौगात।



पिछले महीने 16 अक्टूबर 2016 को पंजाब विधानसभा चुनाव 2017 के मद्दे नजर आम आदमी पार्टी ने पंजाब के औद्योगिक विकास के लिए मेनिफेस्टो जारी किया। इसके प्रमुख अंश निम्न प्रकार से हैं।

1. व्यापार, उद्योग और ट्रांसपोर्ट क्षेत्रो को भ्रष्टाचार मुक्त किया जाएगा। इंस्पेक्टर राज और रेड राज का खात्मा किया जाएगा। गुंडा टैक्स हरगिज भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

2. टैक्स प्रक्रिया को आसान और पारदर्शी बनाया जाएगा। वैट और सभी टैक्स दिल्ली की तरह घटाए जायेंगे। 5 साल में टैक्स दरें सबसे कम की जाएँगी। टैक्स सम्बंधित चल रहे मामलों का एक साथ निर्णय किया जाएगा। वैट वापसी में तेजी लाई जाएगी।

3. प्रॉपर्टी कारोबार समेत सब तरह के उद्योगों के लिए मंजूरियों आदि के लिए योग्य और जिम्मेदार सिंगल विंडो की व्यवस्था की शुरुआत की जाएगी। आई टी समेत नए उद्योगों की तरफ विशेष ध्यान दिया जाएगा।

4. औद्योगिक शहरों की घाटे में या बंद हुए उद्योग का पुनर्निर्माण, 2 साल तक टैक्स छूट एवं अन्य यत्नो के साथ निश्चित समय में की जाएगी। राज्य को छोड़ चुके उद्योगों को वापस लाने के लिए विशेष पैकेज दिया जाएगा।

5. भ्रष्टाचार ख़त्म करके एवं व्यवस्था कार्य प्रणाली में सुधार करके बिजली की दरें कम की जाएँगी। निजी प्लांटों के साथ पंजाब के हितों के विरुद्ध हुए बिजली समझौतों पर पुनर्विचार किया जाएगा। प्रदेश के लोगों पर अनावश्यक भार डालने वालों को सजा दी जाएगी।

6. वातावरण अनुकूल आई टी एवं अन्य उद्योगों को स्वीकृति देने के लिए रोपड़ में एक नया औद्योगिक शहर विशेष रियायतों के साथ स्थापित किया जाएगा और हिमाचल के साथ लगते पिछड़े हुए तटीय इलाकों में रोजगार पैदा किया जाएगा।

7. अवैध कालोनियों को नियमित करके सीवरेज समेत सभी प्राथमिक सुविधाएँ निश्चित समय के अंदर दी जाएगी।

8. रसूखदारों को फायदा देने के लिए मास्टर प्लान में की गयी छेड़-छाड़ पर पुनर्विचार किया जाएगा और एक व्यापक रीयल एस्टेट पॉलिसी बनाई जाएगी। हाउसिंग कारोबार से सम्बंधित समूहों से बातचीत करके इस कारोबार को फिर से खड़ा किया जाएगा।

9. पुड्डा, गमाडा, गलाडा, इम्प्रूवमेंट ट्रस्टों एवं म्युनिसिपल निगमों समेत सभी सरकारी एजेंसियों एवं कानून में एक समानता लाई जाएगी।

10. रेत - बजरी माफिया का पंजाब से खात्मा किया जाएगा और माइनिंग के लाइसेंस नौजवान कारोबारियों को दिए जाएँगे। अकाली - भाजपा और कांग्रेस की मिलीभगत से गुंडा टैक्स इकठ्ठा करने की पड़ताल विशेष जाँच टीम के द्वारा करवाई जाएगी।

11. खेती पर आधारित फ़ूड प्रोसेसिंग एवं अन्य उद्योगों को 10 साल तक टैक्स छूट दी जाएगी। कम से कम 80% पंजाबियों को रोजगार देने वाले कृषि उद्योगों को ब्याज रहित ऋण दिए जाएंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में फूड प्रोसेसिंग, डेयरी उत्पाद, कपास और मक्का से सम्बंधित उद्योग स्थानीय कारोबारियों को रियायतें देकर लगवाए जाएंगे।

12. ट्रांसपोर्ट कारोबार को राजनीति से मुक्त किया जाएगा। आम आदमी पार्टी की सरकार, बादलों, अकाली - भाजपा नेताओं, कांग्रेसियों एवं अन्य द्वारा गलत तरीकों से हासिल किए गए बस परमिटो को छीनकर बेरोजगार नौजवानों, रिटायर्ड फौजियों, अपंग व्यक्तियों, आतंकवाद पीड़ितों एवं 1984 में सिक्खों के खिलाफ हुए हिंसा के पीड़ितों को देगी।

13. ट्रकों के कारोबार को भ्रष्टाचार मुक्त किया जाएगा। ट्रांसपोर्ट अफसरों और पुलिस द्वारा की जाने वाली अनावश्यक चेकिंग की परेशानी को सरकार बनने के 2 हफ्ते के भीतर दूर किया जाएगा। ट्रक यूनियनों से राजनैतिक कंट्रोल ख़त्म किया जाएगा।

14. हैवी मोटर ड्राइविंग लाइसेंस और टैक्सी परमिट जारी करने की सुविधा हर जिले में मुहैया करवाई की जाएगी।

15. रेहड़ी-फड़ी वालों की परेशानी को रोकने के लिए हर शहर में रेहड़ी मार्किट और सप्ताहवार मंडियों के लिए जगह निश्चित की जाएगी।

16. भले ही खाद्य वस्तुओं में मिलावट बर्दाश्त नहीं की जाएगी, लेकिन दुकानदारों की नाजायज परेशानियों रोकने के लिए नया ढांचा बनाया जाएगा। खाद्य सुरक्षा के लिए हर जिले में परीक्षण लैबोरेटीज बनाई जाएँगी।

17. धार्मिक, सांस्कृतिक एवं औद्योगिक टूरिज्म को होटलों और अन्य क्षेत्रों में टैक्स रियायत के साथ उत्साहित किया जाएगा। लुधियाना, जालंधर, अमृतसर और पटियाला में निजी हिस्सेदारी के साथ एग्जीबिशन हाल बनाए जाएँगे।

18.  महिलाओं को व्यापार में उत्साहित करने के लिए महिला व्यापारियों को 5 साल के लिए टैक्स रियायत दी जाएगी।

19.  शराब माफिया का खात्मा किया जाएगा और इसकी जगह पर सबको बराबर मौके और रोजगार देने वाला एक नया सिस्टम लाया जाएगा। शराब कारोबार में राजनीतिज्ञों एवं उनके कारिंदों का कंट्रोल ख़त्म किया जाएगा।

20. प्राइवेट कंपनियों द्वारा अकाली - भाजपा, कांग्रेसी राजनीतिज्ञों की मिलीभगत के साथ वसूले जा रहे भारी टोल टैक्स जाँच की जाएगी और इस पर पुनर्विचार किया जाएगा। हाइवे के सिवा किसी भी सड़क पर टोल प्लाजा नहीं लगाया जाएगा।

21. केंद्र की कुछ टोल प्लाजा हटाने की नीति के अन्तर्गत जालंधर - अमृतसर और रोपड़ - आनंदपुर साहिब नेशनल हाइवे के टोल प्लाजा हटाने के लिए जोर डाला जाएगा।